Vitamin B Benefits, Sources And Side Effects In Hindi

Vitamin B Benefits, Sources And Side Effects In Hindi

Vitamin B Benefits, Sources And Side Effects In Hindi - विटामिन बी के स्रोत, फायदे और नुकसान


Vitamin B Complex in Hindi विटामिन बी कॉम्प्लेक्स पोषक तत्वों का एक समूह होता है जो शरीर के लिए महत्वपूर्ण कार्यों को करने में अपनी भूमिका निभाता है।

ये विटामिन विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों में सीमित मात्रा में पाए जाते हैं जिसके कारण लोगों को आहार के माध्यम से केवल इन विटामिन की सीमित मात्रा ही मिल सकती है, जो शायद दैनिक कार्यों के लिए पर्याप्त ना हो। 

उम्र, गर्भावस्था, चिकित्सा परिस्थितियां, आनुवांशिकी, दवा और शराब ये सभी कारक शरीर द्वारा विटामिन बी-कॉम्प्लेक्स की मांग में वृद्धि करते हैं।


हमें अपने शरीर को स्वस्थ और जवान बनाए रखने के लिए कुछ विटामिन तथा जरूरी पोषक तत्वों की ज़रूरत होती है. उनमें से एक पोषक तत्व विटामिन बी है. 

विटामिन बी अपने आप में के समहू है. जिसे हम विटामिन बी कॉम्पलेक्स के नाम से जानते है. 

इस समूह में विटामिन बी1, विटामिन बी2, विटामिन बी3, विटामिन बी5, विटामिन बी6 , विटामिन बी7, विटामिन बी9, विटामिन बी12 सम्लित हैं. 

विटामिन बी समहू जल में घुलनशील होता है. यह हमारे शरीर के लिए बहुत ही जरूरी विटामिनों में से एक है.

विटामिन बी क्‍या है/ What is Vitamin B Complex in Hindi?

विटामिन बी 8 वसा में घुलनशील विटामिंस का समूह है जो सेलुलर मेटाबोलिज्‍म (ये रासायनिक प्रतिक्रियाओं का समूह है जीवित रहने के लिए जीवों में होता है) में अहम भूमिका निभाता है। 

ये रासायनिक और जैविक रूप से एक-दूसरे से अलग होते हैं लेकिन कई खाद्य पदार्थों में ये एक साथ पाए जाते हैं।


इन सभी विटामिंस का काम, प्रभाव और दुष्‍प्रभाव अलग होते हैं एवं इसलिए इसकी खुराक और कमी होने का असर भी भिन्‍न होता है। 

तो चलिए जानते हैं विटामिंस के प्रकारों और इनके लाभ एवं दुष्‍प्रभावों के बारे में।

विटामिन बी के स्रोत/ Sources of vitamin B

विटामिन बी समहू के अलग-अलग स्रोत है. 

विटामिन बी1 का अच्छा स्रोत गेहूँ, संतरे, हरे मटर, खमीर, अंडे, चावल, मूँगफली, हरी सब्जियाँ, अंकुर वाले बीज होते हैं. 

विटामिन बी2 का अच्छा स्रोत मछ्ली, चावल, मटर, दाल, खमीर, अंडे की ज़र्दी होते हैं. 

विटामिन बी3 का अच्छा स्रोत दूध, मेवा, अखरोट, अंडे की ज़र्दी होते हैं. 

विटामिन बी5 का अच्छा स्रोत दूध, दाल, पिस्ता, मक्खन, खमीर होते हैं. 


विटामिन बी6 का अच्छा स्रोत खमीर, चावल, मटर, गेहूँ, मछ्ली, अंडे की ज़र्दी होते हैं. 

विटामिन बी7 का अच्छा स्रोत गेहूं, बाजरा, मैदा, सोयाबीन, चावल, ज्वार होते हैं. 

विटामिन बी9 का अच्छा स्रोत दलिया, मटर, मुगफली, अंकुरित अनाज होते हैं. 

विटामिन बी 12 का अच्छा स्रोत अंडे, मांस, मछ्ली होते हैं.

विटामिन बी के फायदे – Vitamin Benefits In Hindi

Vitamin B Benefits, Sources And Side Effects In Hindi

1. मानसिक और तंत्रिका स्वास्थ्य के लिए

न्यूरोलॉजिकल (केंद्रीय तंत्रिका तंत्र) स्वास्थ्य को बनाए रखने में विटामिन बी का अहम योगदान होता है।

इसकी कमी से कई न्यूरोलॉजिकल समस्याएं हो सकती हैं, जैसे नींद न आना, संतुलन बनाए रखने में समस्या होना, हाथ व पैरों में कंपकंपी, त्वचा का सुन्न होना आदि। 

नर्वस सिस्टम को स्वस्थ बनाए रखने के लिए भी विटामिन बी की अहम भूमिका होती है।

2. हृदय रोग के लिए

माना जाता है कि शाकाहारी भोजन करने वाले लोगों को मांसाहारी आहार लेने वाले लोगों के मुकाबले हृदय रोग का खतरा कम होता है। 

हालांकि, एक शोध में पाया गया है कि कई बार सिर्फ शाकाहारी आहार का सेवन करने वाले लोगों में भी हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है। 

ऐसा विटामिन बी की कमी से हो सकता है। विटामिन बी की कमी से हृदय रोग के खतरे को कम करने वाले शाकाहारी आहार के गुणों का प्रभाव कम हो सकता है। 

ऐसे में, विटामिन बी के रोग से बचने के लिए विटामिन बी के सप्लीमेंट्स लेने की सलाह दी जाती है।

3. डीएनए संश्लेषण में मदद करे

डीएनए (DNA, Deoxyribonucleic Acid) हमारी कोशिकाओं में पाया जाता है। 

मनुष्य का शरीर कई कोशिकाओं से बना है और हर कोशिका में कई डीएनए होते हैं। 

ये व्यक्ति के शारीरिक व मानसिक विकास और प्रजनन में मदद करते हैं। दरअसल, हमारे पूरे जीवन में कोशिकाएं कई बार विभाजित होती हैं और जिनसे नई कोशिकाओं का निर्माण होता है, जिन्हें डीएनए की जरूरत होती है। 


ऐसे में कोशिकाओं के विभाजन के दौरान डीएनए के प्रतिरूप (Replica) बनते हैं। 

कोशिका विभाजन के दौरान प्रतिरूप के जरिए डीएनए बढ़ने की इसी प्रक्रिया को डीएनए संश्लेषण (DNA Synthetic/ DNA Replication) कहा जाता है। 

यहां विटामिन बी 12 इसलिए जरूरी है, क्योंकि यह डीएनए संश्लेषण की प्रक्रिया को बढ़ावा देने का काम करता है।

4. वजन कम करने में मदद करे/ Vitamin B benefits for weight lose

विटामिन बी 12 आपका मेटाबॉलिज्म बढ़ाने में मदद करता है। मेटाबॉलिज्म बढ़ने से आपके शरीर में कैलोरी बर्न होगी और भोजन फैट के रूप में जमा नहीं होगा। 

इससे आपके शरीर में फैट की मात्रा कम होगी और आपको वजन नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है।

5. त्वचा को स्वस्थ रखे/ Vitamin B benefits for skin

यूवी किरणों की वजह से अक्सर त्वचा का रंग फीका हो जाता है। 

ऐसे में विटामिन बी का उपयोग करना लाभदायक साबित हो सकता है। यह फोलिक एसिड के साथ मिलकर यूवी किरणों की वजह से फीके पड़े त्वचा के रंग को निखारने में मदद कर सकता है। 

यह मुंहासे, त्वचा से जुड़ी कुछ एलर्जी और चेहरे पर पड़े लाल चकत्तों से आराम पाने में भी मदद कर सकता है।

6. पथरी होने से रोकता है

विटामिन B6 मानव हृदय में जमा होने वाले वसा के स्तर को नियंत्रित करने में सहायता करने के साथ ही विटामिन B6 किडनी में पथरी के निर्माण को भी रोकता है जिससे मानव शरीर के इस महत्वपूर्ण अंग को सही आकार में बनाए रखता है।


7. प्रीमेन्स्ट्रुअल सिंड्रोम

विटामिन B6 महिलाओं में होने वाले प्रीमेन्स्ट्रुअल सिंड्रोम में भी भूमिका निभाता है। 

दरअसल पीरियड आने से पहले ही शरीर में पाइरिडॉक्सिन की आपूर्ति कम हो जाती है जिससे चिड़चिड़ापन, यौन रूचि की कमी और अन्य समस्याएं बढ़ती है। 

इस स्थिति में विटामिन B6 से भरपूर आहार का सेवन सबसे प्रभावी उपचार है।

अधिक मात्रा में विटामिन बी लेने से नुकसान - Vitamin B Complex Side Effects in Hindi

Vitamin B Benefits, Sources And Side Effects In Hindi

विटामिन बी 1 का अधिक मात्रा में उपयोग करना हमारे शरीर के लिए हानिकारक होता है। 

इसकी अधिक मात्रा से त्वचा में एलर्जी, नींद नहीं आना, होंठो का नीला पड़ना, सीने में दर्द और सांस सम्बन्धित बीमारी हो सकती हैं। 

और गर्भवती महिला तथा उस के गर्भ में पल रहे शिशु के दिमाग पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है।

विटामिन बी 3 का भी अधिक मात्रा में उपयोग करना हमारे शरीर के लिए हानिकारक होता है। 

इसके अधिक मात्रा में उपयोग से लिवर को नुकसान पहुंचने, पेप्टिक अल्सर तथा त्वचा पर रैशेज जैसी बहुत सारी समस्याएं होने लगती हैं।

विटामिन बी 6 का भी अधिक मात्रा में उपयोग करना हमारे शरीर के लिए हानिकारक होता है। 

इसके अधिक मात्रा में उपयोग से पेट में अकड़न जैसी समस्या होती है। साथ में नवजात शिशु को इसका अधिक मात्रा में उपयोग करना नवजात शिशु के लिए भी नुकसानदायक है।

विटामिन बी 12 का अधिक मात्रा में उपयोग गर्भवती महिला के लिए अच्छा नहीं होता है। 

विटामिन बी 12 का अधिक मात्रा में उपयोग करने से हमारे पर बुरा प्रभाव पड़ता है साथ-साथ त्वचा पर खुजली, चक़्कर आना, सिर में दर्द जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

अधिक मात्रा में विटामिन बी लेने से नुकसान
विटामिन बी 1 का अधिक मात्रा में उपयोग करना हमारे शरीर के लिए हानिकारक होता है. 

इसकी अधिक मात्रा से त्वचा में एलर्जी, नींद नहीं आना, होंठो का नीला पड़ना, सीने में दर्द और सांस सम्बन्धित बीमारी हो सकती हैं. 


और गर्भवती महिला तथा उस के गर्भ में पल रहे शिशु के दिमाग पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है.

विटामिन बी 3 का भी अधिक मात्रा में उपयोग करना हमारे शरीर के लिए हानिकारक होता है. 

इसके अधिक मात्रा में उपयोग से लिवर को नुकसान पहुंचने, पेप्टिक अल्सर तथा त्वचा पर रैशेज जैसी बहुत सारी समस्याएं होने लगती हैं.

विटामिन बी 6 का भी अधिक मात्रा में उपयोग करना हमारे शरीर के लिए हानिकारक होता है. 

इसके अधिक मात्रा में उपयोग से पेट में अकड़न जैसी समस्या होती है. साथ में नवजात शिशु को इसका अधिक मात्रा में उपयोग करना नवजात शिशु के लिए भी नुकसानदायक है.

विटामिन बी 12 का अधिक मात्रा में उपयोग गर्भवती महिला के लिए अच्छा नहीं होता है.

विटामिन बी 12 का अधिक मात्रा में उपयोग करने से हमारे पर बुरा प्रभाव पड़ता है साथ-साथ त्वचा पर खुजली, चक़्कर आना, सिर में दर्द जैसी समस्याएं हो सकती हैं.

विटामिन बी कॉम्प्लेक्स की कमी से होने वाले रोग – Vitamin B deficiency diseases in Hindi


विटामिन बी 12 की कमी संभावित रूप से मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र के लिए गंभीर और अपरिवर्तनीय क्षति का कारण बन सकती है।

Vitamin B के सामान्य स्तर से थोड़ा कम स्तर पर, थकान, सुस्ती, अवसाद, खराब स्मृति, श्वासहीनता, सिरदर्द, और पीले रंग की त्वचा जैसे लक्षण दिखाई देते है

जो की विशेष रूप से वृद्ध लोगों (60 वर्ष से अधिक) में अनुभव किये जा सकते है जो उम्र बढ़ने के कारण पेट में कम एसिड पैदा करते हैं, जिससे बी12 की कमी की संभावना बढ़ जाती है।