कटहल के फायदे और नुकसान - Jackfruit Benefits and Side Effects in Hindi


Jackfruit Benefits and Side Effects
Jackfruit Benefits and Side Effects

कटहल के फायदे और नुकसान - Jackfruit Benefits and Side Effects in Hindi


kathal ke fayde aur nuksan in hindi (Jackfruit benefits and side effects in Hindi): कटहल एक अनूठा उष्णकटिबंधीय फल है जो सब्जियों के लिए अधिक लोकप्रिय है। कटहल कई तरह के पोषक तत्वों से भरा हुआ एक स्वादिष्ट फल है।

कटहल का पेड़ अन्य फलों के पेड़ से काफी बड़ा होता है और इसके ऊपर बड़े-बड़े कटहल के फल लगते हैं।

कटहल (jackfruit) विटामिन, मिनरल,फाइटोन्यूट्रिएंट, कार्बोहाइड्रेट, इलेक्ट्रोलाइट, फाइबर, फैट और प्रोटीन का अच्छा स्रोत माना जाता है।


पेड़ पर होने वाले फलों में कटहल का फल दुनिया में सबसे बड़ा होता है और इसकी चमकीली पीली खाद्य सामग्री बहुत मीठी और रसदार होती है। इसमें पाए जाने वाले बीज बड़े पैमाने पर स्टार्च और प्रोटीन से बने होते हैं।

यह फल एशियाई देशों में लोकप्रिय है और ज्यादातर गर्मियों के दौरान होता है। फल के बाहरी सतह पर छोटे छोटे काँटे होते हैं।

कटहल में ढ़ेरों ऐसे तत्व होते हैं जो शरीर की कई आवश्यकताओं को पूरा करते हैं. इसमें विटामिन ए, विटामिन सी, थायमीन, पोटैशियम, कैल्शियम, आयरन और जिंक प्रचुर मात्रा में होता है.

जब कटहल कच्चा होता है तब उसे सब्जी के रूप में खाया जाता है। कटहल के पकने पर उसके अंदर के कोवा को निकाल कर फल के रूप में खाया जाता है।

साथ ही पके हुए कटहल के बीजों को भी खाया जाता है और उसके बीच वाले भाग को सब्जी के रूप में खाया जाता है।

कटहल के फायदे, उपयोग और नुकसान – Benefits of Jackfruit in Hindi

Jackfruit Benefits and Side Effects
Jackfruit Benefits and Side Effects

आज आप इस लेख में कटहल के फायदे, कटहल के बीज के फायदे और कटहल के नुकसान (jackfruit benefits and side effects in hindi) के बारें में जानेगे।

1 . कटहल के अंदर कई पौष्टिक तत्‍व पाए जाते हैं जैसे, विटामिन ए, सी, थाइमिन, पोटैशियम, कैल्‍शियम, राइबोफ्लेविन, आयरन, नियासिन और जिंक आदि। इसमें खूब सारा फाइबर पाया जाता है।


2. इसमें बिल्‍कुल भी कैलोरी नहीं होती है। पके हुए कटहल के पल्प को अच्छी तरह से मैश करके पानी में उबाला जाए और इस मिश्रण को ठंडा कर एक गिलास पीने से ताजगी आती है, यह दिल के रोगियों के लिये उपयोगी माना जाता है।

3 . कटहल में पोटैशियम पाया जाता है जो कि दिल की हर समस्‍या को दूर करता है क्‍योंकि यह ब्‍लड प्रेशर को कम कर देता है।


4. ये आयरन का एक अच्छा सोर्स है जिसकी वजह से एनीमिया से बचाव होता है. साथ ही इसके प्रयोग से ब्लड सर्कुलेशन भी नियंत्रित रहता है.

5. अस्थमा के इलाज में भी ये एक कारगर औषधि की तरह काम करता है. कच्चे कटहल को पानी में उबालकर छान लें.

जब ये पानी ठंडा हो जाए तो इसे पी लें. नियमित रूप से ऐसा करने से अस्थमा की समस्या में फायदा होता है.

6. पाचन स्वास्थ्य


कटहल फाइबर का अच्छा स्रोत है, जो पाचन स्वास्थ्य में मुख्य भूमिका निभाता है। फाइबर आंतों की कोशिकाओं को स्वस्थ रखने का काम करता है।

फाइबर डाइजेस्टिक ट्रैक में सुधार कर पाचन क्रिया को बढ़ावा देता है। फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ पेट संबंधी समस्याओं जैसे कब्ज, डायरिया व गैस आदि को ठीक करते हैं

7. वजन घटाने में लाभदायक 


मोटापा दुनिया भर में प्रमुख स्वास्थ्य खतरे के रूप में उभरा है। शरीर में अत्यधिक फैट का जमाव मोटापे को परिभाषित करता है।

मोटापा कई मामलों में हानिकारक हो सकता है, क्योंकि यह हृदय संबंधी बीमारियों, मधुमेह व कैंसर आदि का कारण बन सकता है।

कटहल विटामिन-सी से समृद्ध होता है, इसलिए यह मोटापे को कम करने में मदद कर सकता है

कटहल में मौजूद एंटीइंफ्लेमेटरी गुण मोटापे को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

कटहल रेसवेरेट्रॉल नामक एंटीऑक्सीडेंट का अच्छा स्रोत है, जो वजन, बीएमआई और फैट मास को कम करने में मदद कर सकता है

8. त्वचा स्वास्थ्य के लिए कटहल खाने के फायदे/ Jackfruit benefits for skin


त्वचा के लिए भी कटहल के फायदे बहुत हैं। कटहल विटामिन-सी से समृद्ध होता है, जो त्वचा को नुकसान पहुंचाने वाले मुक्त कणों से लड़ने का काम करता है।

वहीं, विटामिन-बी त्वचा कोशिकाओं के पुनर्निर्माण में मदद करता है।

विटामिन-सी के एंटीऑक्सीडेंट गुण और कोलेजन के गठन की क्षमता इसे त्वचा के लिए खास पोषक तत्व बनाती है।

कुछ अध्ययनों के अनुसार, विटामिन-सी सूर्य की हानिकारक पैराबैंगनी किरणों से त्वचा को बचाने का काम करता है।

कटहल त्वचा को हाइड्रेट कर शुष्कता को कम करने का काम भी कर सकता है।

कटहल फाइबर का भी अच्छा स्रोत है, जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है।

त्वचा के स्वास्थ्य को बरकरार रखने के लिए आप अपने आहार में कटहल को स्थान दे सकते हैं।

कटहल के फायदे जानने के बाद आगे जानिए कटहल में कौन-कौन से पोषक तत्व मौजूद होते हैं।

9. आंखों कि लिए कटहल खाने के फायदे


कटहल विटामिन-ए और सी से भरपूर होता है और ये दोनों ही पोषक तत्व आंखों के लिए फायदेमंद माने जाते हैं।

एक अध्ययन में वैज्ञानिकों ने पाया कि विटामिन-सी की पर्याप्त मात्रा लेने से उम्र से संबंधित नेत्र रोग के जोखिम को कम किया जा सकता है।

एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार विटामिन-सी मोतियाबिंद के खतरे को भी कम कर सकता है। स्वस्थ आंखों के लिए आप अपने आहार में कहटल को शामिल कर सकते हैं

10. एनीमिया/ Jackfruit For Anemia in Hindi


एनीमिया जैसी बीमारी के लिए भी कटहल के फायदे देख जा सकते हैं। एनीमिया एक चिकित्सकीय स्थिति है, जो रक्त में लाल कोशिकाओं की कमी के कारण होती है।

एनीमिया के रोकथाम के लिए कटहल का सेवन किया जा सकता है, क्योंकि यह आयरन का अच्छा स्रोत है और आयरन लाल रक्त कोशिकाओं के विकास में मदद करता है।

एनीमिया होने का सबसे मुख्य कारण शरीर में आयरन की कमी होना ही है।

इसके अलावा, कटहल में विटामिन-बी6 की भी अधिकता होती है। यह पोषक तत्व भी लाल रक्त कोशिकाओं के विकास को बढ़ावा देने का काम करता है।

11. कैंसर से बचाव


कटहल के बीज में एंटीऑक्सीडेंट होता है जो कैंसर से शरीर को बचाता है।

यह शरीर को मुक्त कणों से बचाता है और डीएनए कोशिकाओं को क्षतिग्रस्त नहीं होने देता है।

इसमें कैंसर रोधी गुण पाया जाता है जो शरीर की कोशिकाओं को टूटने से बचाता है।

12. हड्डियों को मजबूत रखने में


कटहल के बीज में कैल्शियम पाया जाता है जो हड्डियों को मजबूत रखता है। इसके अलावा इसमें पोटैशियम भी पाया जाता है जो मांसपेशियों और हड्डियों दोनों को स्वस्थ एवं मजबूत बनाता है।

13. दूर भगाए अस्‍थमा, थायराइड और इंफेक्‍शन 

कटहल की जड़ अस्‍थमा के रोगियों के लिए लाभदायक मानी जाती है. इसकी जड़ को पानी के साथ उबाल कर बचा हुआ पानी छान कर लेने से अस्‍थमा को कंट्रोल किया जा सकता है.


थायराइड के लिए भी कटहल उत्तम है. इसमें मौजूद सूक्ष्म खनिज और कॉपर थायराइड चयापचय के लिये प्रभावशाली होता है. यहां तक कि  यह बैक्‍टेरियल और वाइरल इंफेक्‍शन से भी बचाता है.

14. जोड़ों के दर्द में रामबाण


कटहल के छिलकों से निकलने वाला दूध अगर सूजन, घाव और कटे-फटे अंगों पर लगाया जाए तो आराम मिलता है.

इसी दूध से जोड़ों पर मालिश की जाए तो जोड़ों के दर्द से राहत मिलती है.

15. मुंह के छालों में असरदार


जिन लोगों को मुंह में बार-बार छाले होने की शिकायत हो, उन्हें कटहल की कच्ची पत्तियों को चबाकर थूकना चाहिए.

यह छालों को ठीक कर देता है. इसमें पाए जाने वाले कई खनिज हार्मोन्स को भी नियंत्रित करते हैं.

16. झुर्रियों से मिलेगा छुटकारा


झुर्रियों से निजात पाने के लिए कटहल का पेस्ट बना कर और उसमें एक चम्मच दूध मिलाकर धीरे धीरे चेहरे पर लगाना चाहिए.

फिर गुलाब जल या ठंडे पानी से चेहरा साफ कर लें. नियमित रूप से ऐसा करने से चेहरेरों की झूर्रियों से छुटकारा मिल जाता है.


कटहल के पौष्टिक तत्व – Jackfruit Nutritional Value in Hindi

Jackfruit Benefits and Side Effects
Jackfruit Benefits and Side Effects

According to the United States Department of Agriculture, a cup of raw, sliced jackfruit contains:

157 calories

2.84 g of protein

1.06 g of fat

38.36 g of carbohydrates

2.5 g of dietary fiber

31.48 g of sugars

48 mg of magnesium

739 mg of potassium

22.6 mg of vitamin C

यह फल ऊर्जा देकर शरीर को पुनर्जीवित करता है क्योंकि यह कैलोरी से भरपूर होता है।

इसमें फाइबर की उच्च सामग्री होने के कारण एक अच्छा रेचक है। यह कोलोन म्यूकस मेम्ब्रेन की रक्षा करने में भी मदद करता है।

इसमें मौजूद विटामिन-ए और अन्य एंटी-ऑक्सिडेंट आंख, त्वचा और बालों के स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

विटामिन-सी की उपस्थिति शरीर में मुक्त कणों के हानिकारक प्रभावों से लड़ने में मदद करती है।

पोटेशियम हृदय गति और रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है।


कटहल के नुकसान – Side Effects of jackfruit

Jackfruit Benefits and Side Effects
Jackfruit Benefits and Side Effects


कटहल में उच्च मात्रा में फाइबर (jackfruit high in fiber) पाया जाता है जिसकी वजह से पेट गड़बड़ हो सकता है और मल आसामान्य हो सकता है।

गर्भवती महिलाओं और बच्चों को दूध पिलाने (breast feeding) वाली महिलाओं के लिए कटहल का उपयोग करना अच्छा नहीं माना जाता है। इसलिए उन्हें कटहल से परहेज करना चाहिए।

कटहल का अधिक सेवन मधुमेह रोगियों में ब्लड शुगर के स्तर को प्रभावित कर देता है।

इसलिए डायबिटीज से पीड़ित व्यक्तियों को कटहल के सेवन से परहेज करना चाहिए। (और पढ़े – मधुमेह को कम करने वाले आहार)

शल्य चिकित्सा (surgery) से पहले और बाद में इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं को कटहल प्रभावित करता है।

इसलिए सर्जरी कराने से कम से कम दो हफ्ते पहले से ही कटहल का सेवन बंद कर देना चाहिए।

How to Consume Jackfruit in Hindi – जैकफ्रूट का सेवन कैसे करें


कटहल को कई तरीकों से खाया जा सकता है, पका हुआ या कच्चा, पकाया या बिना पकाया हुआ। आजकल यह फल टुकड़ों में व्यापक रूप से उपलब्ध है।

यदि पूरे पके हुए फल की तलाश कर रहे हैं तो यहां कुछ तरीके हैं जिन्हें आप अपना सकते हैं।


इसका रंग जांचें। इसका बाहरी हिस्सा पूरी तरह से हरे रंग के बजाय पीले-हरे रंग का होना चाहिए|

इसे सूंघे। इसकी गंध मजबूत मीठी होनी चाहिए|

इसे थपथपायें। यदि यह फल पका हुआ है तो खोखली आवाज देगा|

इसके बहरी कवर को दबाएं। यह बहुत कठोर या नरम नहीं होना चाहिए। यदि यह नरम है, तो यह जल्द ही सड़ने वाला है|

यहां कुछ तरीकों से कटहल का सेवन कर सकते हैं।

भुने हुए या उबले हुए कटहल के बीज


आप खाने के लिए बीज को उबाल या भून सकते हैं। उबालने या भूनने के बाद इसकी बाहरी सफेद परत को हटा दें और यदि आप चाहें तो ऊपर से नमक या अन्य मसाले छिडकें|

कटहल के बीज ज्यादा पौष्टिक होते हैं। वे आँखों के लिए अच्छे हैं, कब्ज को रोकते हैं और हड्डियों के लिए अच्छे हैं। वे ऊर्जा भी देते हैं।

कटहल का मसालेदार सलाद


ताजा कटहल के टुकड़े करके इसे नरम करने के लिए उबाल सकते हैं। एक पैन में बारीक कटा हुआ प्याज, लाल मिर्च, हरा प्याज, लहसुन और अपनी पसंद की कोई भी सब्जी लें और उसमे वनस्पति तेल या मक्खन डालें।

उन्हें पैन से निकालें, फिर कटहल, नमक, कुछ पुदीना या धनिया पत्ती और काली मिर्च डालें।


आप कटहल के सैंडविच, अचार, थाई, भारतीय या किसी अन्य प्रकार की करी भी बना सकते हैं।

यह फल अपने आहार में शामिल करने के लिए एक स्वस्थ विकल्प होगा।

Jackfruit Benefits and Side Effects in Hindi. Please share and comment if you like this post..