benefits of vitamin a, Sources and Side effects of vitamin a

Benefits of Vitamin A
benefits of vitamin a

Know the benefits of vitamin A


vitamin A in hindi: विटामिन ए वसा में घुलनशील विटामिन है। यह त्वचा, हड्डियों और शरीर की अन्य कोशिकाओं को मजबूत रखने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 

विटामिन ए में एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होता है जो कोशिकाओं को क्षतिग्रस्त होने से बचाता है। इसके अलावा भी विटामिन ए के अन्य कई फायदे हैं।

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए हम बहुत कुछ करते हैं. खाने-पीने का ध्यान, नियमित व्यायाम और साफ-सुथरी दिनचर्या का पालन करने से बहुत हद तक हम स्वस्थ रह सकते हैं.

लेकिन इन सब में सबसे ज्यादा योगदान और महत्व हमारे खान-पान और उसमें शामिल न्यूट्रिशियस तत्वों का है इनमें विटामिन सबसे ज्यादा महत्त्वपूर्ण हैं.

भोजन में किसी प्रकार की अनियमितता से अगर विटामिन्स की कमी हो तो शरीर में विभिन्न प्रकार के रोग पैदा हो जाते हैं. सम्पूर्ण शरीर को स्वस्थ रखने के लिए अलग-अलग विटामिन की जरूरत होती है. 

शरीर में हड्डियों और मांसपेशियों की मजबूती और आँखों के सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए विटामिन ए की आवश्यकता होती है.

विटामिन ए क्या है/ Vitamin A in Hindi


विटामिन ए का आविष्कार 1931 में हुआ था. आसानी से जल, तेल और वसा में घुलने वाला विटामिन ए मुख्य रूप से रेटिनॉइड  और कैरोटिनॉइड के रूप में पाया जाता है.

ज़्यादातर विटामिन ए गहरे रंग वाली सब्जियों और फलों में पाया जाता है और इसी कारण इन सब्जियों का गहरा और चमकीला  रंग होता है. 

लगभग 600 प्रकार के कैरोटिनॉइड में से बीटा-कैरोटीन, अल्फा-कैरोटीन और बीटा-जिन्थोफिल अधिक महत्वपूर्ण हैं.

 इसी कारण इन्हें प्रोविटामिन ए कहा जाता है.

विटामिन ए शक्‍तिशाली एंटीऑक्‍सीडेंट है जो फ्री रेडिकल्‍स के हानिकारक प्रभावों से बचने में मदद करता है। 

शरीर के सही विकास के लिए विटामिन ए बहुत अहम भूमिका निभाता है। 

इसलिए नवजात शिशु और बच्‍चों के लिए इसे बहुत जरूरी माना जाता है।

विटामिन ए से त्‍वचा, ऊतकों, श्‍लेष्‍मा झिल्लियों, हड्डियों और दांतों को स्‍वस्‍थ रहने में मदद मिलती है। 

प्रतिरक्षा तंत्र के कार्य में सुधार लाने में विटामिन ए महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है जिससे संक्रमण से लड़ने में मदद मिलती है।

Sources of Vitamin A in Hindi

sources of vitamin a
sources of vitamin a

विटामिन ए के अच्छे स्रोत हैं गाजर, चुकंदर, शलजम, शकरकंद, मटर, टमाटर, ब्रोकली, कद्दू, साबुत अनाज, हरी पत्‍तेदार सब्‍जियां, धनिया, गिरीदार फल, पीले या नारंगी रंग के फल, आम, तरबूत, पपीता, चीकू, पनीर, सरसों, राजमा, बींस, अंडा आदि इन सभी में उचित मात्रा में विटामिन ए पाया जाता है।

आइये जाने vitamin a ke fayde in hindi .vitamin a ke labh in hindi

Benefits of Vitamin A in Hindi


स्वस्थ शरीर के लिए विटामिन बहुत जरूरी होता है। विटामिन ए के उपयोग से हमारी आँखों की रौशनी तेज होती है और आँखों की मांसपेशिया भी मजबूत बनती हैं। 

यह आंखों के रेटिना में रंग (Pigments) उत्पन्न करता है। विटामिन ए एक एंटी-ऑक्सीडेंट है। 

एंटी-ऑक्सीडेंट्स शरीर की कोशिकाओं को फ्री रेडिकल्स के हानिकारक प्रभावों से बचाने का काम करता है। 

विटामिन ए हृदय रोगों, अस्थमा, डायबिटीज और कई अन्य रोगों में भी लाभदायक है। 

विटामिन ए इम्यून तंत्र को मजबूत बनाने में बहुत ही अच्छा होता है जिससे हमारी कोशिकाएं सक्रिय होने से बची रहती है।

इसलिए हमें रोजाना विटामिन ए युक्त आहार का सेवन करना चाहिए। विटामिन ए युक्त आहार के सेवन से हमारा शरीर और त्वचा स्वस्थ और जवान बनी रहती है।

विटामिन ए के उपयोग/ Uses of Vitamin A


अच्‍छी सेहत के लिए यह सबसे महत्‍वपूर्ण विटामिन है। यह आंखों की रौशनी को तेज कर के उसकी मासपेशियों को मजबूत बनाता है।  

यह भ्रूण की नार्मल ग्रोथ और डेवलेप्‍मेंट के लिए बहुत अच्‍छा माना जाता है। त्‍वचा के लिए स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक होता है। 

रक्त में कैल्सियम का स्तर बनाए रखने और हडिडयों के संवर्द्ध के लिए आवश्यक है।

हडिडयों, दांत, और ऊतकों के रख-रखाव के लिए आवश्यक है। ऊर्जा पैदा करने के लिए सभी कोशिकाओं को इसकी जरुरत पडती है।

स्वस्थ रहने के लिए विटामिन ए के दोनों रूपों का सेवन करना चाहिए। कैरोटिनॉयड रूप विशेष परिस्थितियों में रेटिनॉयड रूप में परिवर्तित हो जाता है। 

किसे चाहिए अधिक विटामिन ए / Who needs Vitamin A


शाकाहारी लोगों और शराब का सेवन करने वालों को इसकी अधिक जरूरत होती है। 

लिवर की बीमारियों, सिस्टिक फाइब्रोसिस आदि  से पीड़ित लोगों को भी विटामिन ए की आवश्यकता होती है। 

कई लोग समझते हैं कि विटामिन ए केवल एक विशेष पदार्थ होता है, जबकि इसमें पोषक तत्वों की एक विस्तृत श्रृंखला होती है। हर पोषक पदार्थ के अपने लाभ होते हैं। 

अधिक मात्र में विटामिन ए का सेवन ‘विटामिन के’ के अवशोषण को प्रभावित करता है। वसा में घुलनशीन विटामिन के रक्त का थक्का बनाने के लिए जरूरी है।

अधिक उम्र में भी आपके आँखों की रक्षा करता है/ Vitamin A benefits for eyes in Hindi


ये आपके आँखों की रौशनी और उनकी मांशपेशियो  को बेहतर बनाता है. इसके सेवन से आपके आँखों की रेटिना अच्छी रहती है. 

किसी भी वस्तु को इंसान आखों की रेटिना की वजह से ही देख पाता है. रेटिना का काम हमारे दिमाग को सिग्नल भेजना होता है, इससे दिमाग उस वस्तु को पहचानता है. 

इसी कारण हम किसी भी वस्तु को देख पाते है. उम्र के साथ बहुत से लोगों को कम दिखाई देने की समस्या आती है, या उन्हें कोई भी वस्तु धुंदला दिखाई देने लगता है.  

विटामिन A ऐसे धुंदलेपन की समस्या के निवारण  लिए बहुत अच्छा है. शोध के अनुसार जो लोग विटामिन A का सेवन सही मात्रा में करते है, उनकी आँखों की समस्या बहुत कम जाती है.

किडनी के रोग में विटामिन ए के फायदे/ Vitamin a benefits for kidney


यह किडनी के लिए भी आवश्यक होता है। अनुसन्धानों से पता चला है कि यदि आहार में विटामिन ए पर्याप्त मात्रा में न लिया जाए तो किडनी में पथरी बनने की सम्भावना निर्मित हो जाती है।

Benefits of Vitamin A to Improves immune system in Hindi


विटामिन ए इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. 

इम्यून सिस्टम हमारे शरीर को बाहरी जीवाणुओं से बचाता है. ये हमारे शरीर के वाइट ब्लोड्ड सेल को बनाने एवं उसे संचालन करने में बहुत मदद गार है. 

यही वाइट ब्लड सेल हमारे शरीर के अंदर रक्त के जीवाणुओं को मारते है. इसीलिए विटामिन A आपको इन्फेक्शन होने से बचाता है. 

खासकर ऐसे लोगो या बच्चों को जिन्हे मीसल्स या मलेरिया है । इसकी कमी के कारण बच्चों  को diarrhea या खसरा हो  सकता है.

कैंसर रोकथाम में मददकरता है/ Benefits of Vitamin A Reduce the Risk of Cancer in Hindi


कैंसर का कारण जब आपके शरीर में घातक कोशिकाएं बढ़ने लगे. विटामिन A शरीर में घातक कोशिकाओं के निर्माण को रोकता है, और कई रूपों में कैंसर से रक्षा करता है।

फेफड़े, स्तन, गर्भाशय, ब्लैड और त्वचा के कैंसर को रेटिनोइक एसिड द्वारा दबाया जा सकता है. 

बहुत सारे शोध में भी ये पाया गया है की विटामिन A को अगर सही मात्रा में बीटा-कैरोटीन के रूप में ले तो कैंसर के आसार बहुत कम होते है. 

इसका सबसे ज्यादा फायदा आपको पेड़ वनस्पति से पाए जाने वाले विटामिन A खाने से होगा।

विटामिन ए के लाभ शरीर के सूजन को कम करने में – Benefits of Vitamin A to reduce body swelling in Hindi


विटामिन ए में एंटीऑक्सिडेंट गुण पाये जाते हैं जो कि शरीर में मुक्त कणों को बेअसर करते हैं जिससे ऊतक और कोशिकाओं की क्षति होती है। 

विटामिन ए कोशिकाओं को अधिक सक्रिय होने से रोकता है। जब इम्यून सिस्टम खाद्य प्रोटीन के प्रति अधिक सक्रिय हो जाता है तो शरीर में फूड एलर्जी और सूजन बढ़ने लगती है।

विटामिन ए इस तरह की फूड एलर्जी को बेअसर करता है और शरीर को खतरनाक बीमारियों से बचाता है। 

विटामिन ए के फायदे शरीर में सूजन का स्तर कम होती है और अल्जाइमर और पर्किंसन जैसी बीमारियां नहीं होती हैं।

त्वचा को स्वस्थ रखने में विटामिन ए के फायदे/ Vitamin A benefits for skin

यह त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए भी आवश्यक होता है। त्वचा कुछ विशेष प्रकार के ऊतकों से निर्मित होती है और विटामिन ‘ए’ इन ऊतकों को स्वस्थ बनाए रखता है।

विटामिन ए फूड्स घाव भरने और त्वचा को स्वस्थ रखने में सहायक – Vitamin A Foods Helping to heal wounds and keep skin healthy in Hindi


विटामिन ए के फायदे किसी घाव को भरने और त्वचा के फिर से बनने के लिए आवश्यक है। 

यह त्वचा की कोशिकाओं को बनने में आतंरिक और वाह्य रूप से सहायता करता है और स्किन कैंसर से लड़ने में मदद करता है। 

ग्लाइकोप्रोटीन के निर्माण में विटामिन ए की जरूरत होती है जो कोशिकाओं को जुड़ने और ऊतकों के बनने में सहायक होता है।

विटामिन ए की कमी से त्वचा का रंग फीका पड़ने लगता है। विटामिन ए कील-मुंहासों को दूर कर त्वचा को स्वस्थ रखने में मदद करता है। 

यह अधिक कोलेजन उत्पन्न करता है और त्वचा को झुर्रियों से बचाता है और आपको जवान रखता है। 

इसके अलावा विटामिन ए बालों को भी मजबूती प्रदान करता है।

दांतों व मसूढों को स्वस्थ रखने में विटामिन ए के फायदे/ Benefits of Vitamin a for teeth


दांत व मसूढों को स्वस्थ रखने में अन्य विटामिनों के साथ विटामिन ‘ए’ भी सहयोग करता है। हमारे दांतों पर इनामल (Ename1) की परत रहती है जिससे दांत सफ़ेद व चमकीले बने रहते हैं। विटामिन ‘ए’ इस परत के निर्माण के लिए अति आवश्यक तत्व होता है।

विटामिन ए लेने से नुकसान/ side effects of Vitamin A in hindi

side effects of vitamin a
side effects of vitamin a

विटामिन ए के फायदे बहुत हैं लेकिन यदि सही मात्रा से जादा लेने पर इसके कुछ नुकसान भी है। 

विटामिन ए के सप्लिमेंट से अधिक मात्रा में विटामिन ए लेने से या इसके अन्य एंटीऑक्सीडेंट लेने से जन्म दोष, हड्डियां कमजोर और लीवर संबंधी समस्या हो सकती है।

अधिक मात्रा में विटामिन ए लेने से पीलिया, मितली, उल्टी, भूख की कमी, चिड़चिड़ापन और बाल झड़ना जैसी समस्याएं हो सकती है। 

अगर आप विटामिन ए का सप्लिमेंट लेते हैं तो इसे कम मात्रा में या डॉक्टर की सलाह से लें। इसकी ज्यादा मात्रा लेने पर किडनी या लीवर की बीमारी हो सकती है

विटामिन ए की अधिकता से स्किन ड्राई, जोड़ों में दर्द, उल्टी, सिरदर्द और भ्रम की समस्या हो जाती है। 

अगर आप गर्भनिरोधक गोलियां, कील मुंहासे को ठीक करने की दवाई या कैंसर के इलाज के अलावा अन्य कोई दवा ले रहे हैं तो विटामिन ए इनके प्रभाव को निष्क्रिय कर सकता है।

अगर आप कोई दवा खाते हैं तो विटामिन ए का सप्लिमेंट लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श ले लें। 

विटामिन ए के सप्लिमेंट में रेटिनॉयड अधिक मात्रा में होता है जिससे हमें कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं

विटामिन ए की कमी के लक्षण और नुकसान/Vitamin A deficiency symptoms in Hindi


विटामिन ए हमारे शरीर की त्वचा, बाल, नाखूनों आदि के लिए लाभदायक होता है. 

विटामिन ए की कमी से कमजोर दांत, थकान, सूखे बाल, सूखी त्वचा, साइनस, क्रोनिक डायरिया, निमोनिया, सर्दी – जुखाम, वजन में कमी, नींद ना आना, नाईट ब्लाइंडनेस (रतौंधी) जैसे रोग होते है.

विटामिन ए को कितना खाना चाहिए/ vitamin a dose

स्वस्थ शरीर के लिए विटामिन बहुत जरूरी होता है. 

विटामिन ए के उपयोग से हमारी आँखों की रौशनी तेज होती है और आँखों की मांसपेशिया भी मजबूत बनती हैं. यह आंखों के रेटिना में रंग उत्पन्न करता है. 

विटामिन ए एक एंटी-ऑक्सीडेंट है. एंटी-ऑक्सीडेंट्स शरीर की कोशिकाओं को फ्री रेडिकल्स के हानिकारक प्रभावों से बचाने का काम करता है. 


विटामिन ए हृदय रोगों, अस्थमा, डायबिटीज और कई अन्य रोगों में भी लाभदायक है. 

विटामिन ए इम्यून तंत्र को मजबूत बनाने में बहुत ही अच्छा होता है जिससे हमारी कोशिकाएं सक्रिय होने से बची रहती है. 

इसलिए हमें रोजाना विटामिन ए युक्त आहार का सेवन करना चाहिए. विटामिन ए युक्त आहार के सेवन से हमारा शरीर और त्वचा स्वस्थ और जवान बनी रहती है.


विटामिन ए की कमी को दूर करने के उपाय : how to get rid of a vitamin A deficiency in hindi

जिन कारणों से विटामिन ‘ए’ की कमी होती है उनका त्याग करने से यह कमी दूर होती है। अपने भोजन में विटामिन ‘ए’ युक्त पदार्थों का नियमित सेवन करने से यह कमी दूर होती है।

प्रकृति की कृपा से हमारे शरीर में यकृत द्वारा विटामिन ‘ए’ का भण्डारण (store) करने की क्षमता होती है इसलिए दैनिक आहार में यदि विटामिन ‘ए’ की मात्रा ज्यादा होती है तो यकृत इसको संग्रह करके रख लेता है और जरूरत पड़ने पर शरीर में इसकी पूर्ति कर देता है। 

राष्ट्रीय पोषण संस्थान, हैदराबाद द्वारा किये गये परीक्षणों से पता चलता है कि छः माह में एक बार यदि बच्चों को विटामिन ‘ए’ का घोल, चिकित्सक के परामर्श के अनुसार, पिलाया जाए तो उनके शरीर में विटामिन ‘ए’ की कमी नहीं होती।


भारत सरकार द्वारा, विटामिन ‘ए’ की कमी से होने वाले अन्धत्व की रोकथाम के लिए एक कार्यक्रम चलाया जा रहा रहे जिसके तहत स्वास्थ्य कार्यक्रम के ज़रिये, पांच वर्ष तक के बच्चों को, विटामिन ‘ए’ का घोल प्रति छः माह पिलाया जाता है। 

एक बार के घोल में विटामिन ‘ए’ की मात्रा दो लाख अन्तर्राष्ट्रीय इकाई होती है। यह घोल छः माह में एक बार ही पिलाना चाहिए अन्यथा हानिकारक होगा।